spot_img
Monday, January 30, 2023
spot_img
Homeट्रेंडिंग न्यूज़बेटे अर्जुन के शतक को देखकर सचिन तेंदुलकर की आँखो से झलके...

बेटे अर्जुन के शतक को देखकर सचिन तेंदुलकर की आँखो से झलके आंसू, भावुक होकर गहरे राज से उठाया पर्दा

बेटे अर्जुन के शतक को देखकर सचिन तेंदुलकर की आँखो से झलके आंसू, भावुक होकर गहरे राज से उठाया पर्दा अर्जुन तेंदुलकर द्वारा अपने पहले प्रथम श्रेणी मैच में गोवा के खिलाफ शतक लगाने के कुछ दिन बाद अब पिता सचिन तेंदुलकर ने प्रतिक्रिया दी है। सचिन ने भी अपने प्रथम श्रेणी डैब्यू में शतक लगाया था। क्रिकेट के कई बड़ रिकॉर्ड अपने नाम कर चुके सचिन तेंदुलकर अपने बेटे की इस खास उपलब्धि पर काफी खुश दिखे। एक प्रोग्राम के दौरान अर्जुन के प्रदर्शन पर बात करते हुए सचिन ने कहा कि सब से पहले मैं चाहता हूं कि उस पर अनुचित दबाव न डाला जाए।

यह भी पढ़े- नये अवतार में Tata Nano की धासु एंट्री, अब Alto से भी आधी कीमत में, तगड़े फीचर्स और मॉडर्न लुक ने लोगो के दिलो…

सचिन तेंदुलकर बेटे अर्जुन के शतक लगते ही हो गए भावुक (Sachin Tendulkar became emotional after son Arjun scored a century)

सचिन तेंदुलकर बेटे अर्जुन के शतक लगते ही हो गए भावुक सचिन बोले- अर्जुन का बचपन सामान्य नहीं रहा है। एक क्रिकेटर का बेटा होना इतना आसान नहीं होता। मैं जब रिटायर्ड हुआ तो मैंने अपनी स्पीच में अर्जुन को संदेश दिया था कि वह क्रिकेट से प्यार करे। अब उसका प्रदर्शन सामने आया है तो कई तरह के बयान आ रहे हैं। मैं सिर्फ यह कहना चाहूंगा कि उस पर दबाव मत डालो क्योंकि मेरे माता-पिता ने भी मुझ पर कभी दबाव नहीं डाला था। 

image 662

सचिन ने कहा- मेरे माता-पिता ने मुझे बाहर जाने और खुद को अभिव्यक्त करने की आजादी दी थी। मुझपर अपेक्षाओं का कोई दबाव नहीं था। यह केवल प्रोत्साहन और समर्थन था और हम कैसे जा सकते हैं और खुद को बेहतर बना सकते हैं और यही मैं चाहता था। मैं उससे कहता रहा हूं कि आगे चुनौतियां आने वाली हैं। 

>

यह भी पढ़े- Maruti की 7 सीटर Premium MPV ने मचाया भूचाल, स्मार्ट फीचर्स से Bolero और Scorpio का किया पता साफ़, माइलेज में हिट और बजट…

अर्जुन के शतक लगाने पर गर्व महसूस कर रहा हूँ (proud of arjun’s century)

image 663

अर्जुन के शतक लगाने पर गर्व महसूस कर रहा हूँ सचिन इस दौरान पिता रमेश तेंदुलकर को याद कर भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि एक पिता के रूप में मुझे याद है कि मेरे पिता ने किसी को बताया था (जब मैंने भारत के लिए खेलना शुरू किया था) कि सचिन के पिता कहलाने से उन्हें बहुत गर्व हुआ। फिर उन्होंने अपने दोस्त से कहा कि आपके बच्चे ने जो किया है, उसके लिए पहचाना जाना एक खास अहसास है।

>
RELATED ARTICLES

Most Popular