spot_img
Monday, January 30, 2023
spot_img
Homeधर्मDev Uthani Ekadashi Vrat Niyam 2022: देव उठनी एकादशी, जान ले व्रत...

Dev Uthani Ekadashi Vrat Niyam 2022: देव उठनी एकादशी, जान ले व्रत के नियम

Dev Uthani Ekadashi Vrat Niyam 2022: देव उठनी एकादशी, जान ले व्रत के नियम, देव उठनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु की पूजा का विधान है। इस दिन तुलसी विवाह भी कराया जाता है। जानें देवउठनी एकादशी के दिन क्या करें और क्या नहीं-

Dev Uthani Ekadashi Vrat Niyam 2022

हिंदू धर्म में देव उठनी एकादशी का विशेष महत्व है। हिंदू पंचांग के अनुसार, कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी कहा जाता है। इसे प्रबोधिनी या देवोत्थान एकादशी के नाम से भी जानते हैं। देवउठनी एकादशी के दिन से ही चतुर्मास समाप्त हो रहे हैं और शुभ व मांगलिक कार्य शुरू होंगे। शास्त्रों के अनुसार, देवउठनी एकादशी के दिन ही सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु चार महीने बाद योग निद्रा से जागते हैं और पुन: सृष्टि का कार्यभार संभालते हैं। इस दिन भगवान शालीग्राम और माता तुलसी का विवाह कराया जाता है। इस साल देव उठनी एकादशी 4 नवंबर 2022 को है।

ये भी पढ़िए : विश्व का सबसे ऊंचा शिव जी का तुंगनाथ मंदिर ढका बर्फ…

एकादशी तिथि भगवान विष्णु को समर्पित होती है। ऐसे में इस दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की विधि-विधान से पूजा-अर्चना की जाती है। शास्त्रों के अनुसार, देवउठनी एकादशी के दिन तुलसी के पत्तों को नहीं तोड़ना चाहिए। जानें इस दिन क्या करें और क्या नहीं व जान लें देवउठनी एकादशी व्रत नियम

  1. तुलसी के पत्ते न तोड़े- देवउठनी एकादशी के दिन प्रभु शालीग्राम और माता तुलसी का विवाह कराया जाता है। ऐसे में इस दिन तुलसी के पत्तों को तोड़ने की मनाही होती है।
  2. तामसिक चीजों का सेवन न करें- एकादशी के दिन सात्विक भोजन करना चाहिए। अगर आप व्रत नहीं रख रहे हैं तो इस दिन साधारण भोजन करना चाहिए। इस दिन मांस-मदिरा आदि का सेवन नहीं करना चाहिए।
  3. चावल का सेवन न करें- एकादशी के दिन चावल का सेवन नहीं करना चाहिए। मान्यता है कि चावल का सेवन करने से व्यक्ति अगले जन्म में रेंगने वाले जीव की योनि पाता है।
  4. वाद-विवाद से बचें- एकादशी तिथि के दिन वाद-विवाद से बचना चाहिए। इस दिन लड़ाई-झगड़ा करने से मां लक्ष्मी नाराज हो सकती हैं।
  5. किसी का न करें अपमान- एकादशी तिथि के दिन किसी का अपमान नहीं करना चाहिए। मान्यता है कि ऐसा करने से मां लक्ष्मी रुष्ट होती हैं।

देवउठनी एकादशी के दिन करें ये काम-

  1. एकादशी के दिन दान करना उत्तम माना जाता है।
  2. एकादशी के दिन संभव हो तो गंगा स्नान करना चाहिए।
  3. विवाह संबंधी बाधाओं को दूर करने के लिए एकादशी के दिन केसर, केला या हल्दी का दान करना चाहिए।
  4. एकादशी का उपवास रखने से धन, मान-सम्मान और संतान सुख के साथ मनोवांछित फल की प्राप्ति होने की मान्यता है।
  5. कहा जाता है कि एकादशी का व्रत रखने से पूर्वजों को मोक्ष की प्राप्ति होती है।
>

ये भी पढ़िए : सकारात्मक ऊर्जा के साथ करता है यह पौधा आपके घर में…

>
RELATED ARTICLES

Most Popular