इस देश में की जाती है खूंखार मगरमच्छो की खेती, खाने से लेकर प्रोडक्ट बनाने में भी होता है इस्तमाल

By Jitendra

Published on:

Interesting Fact: इंटरनेट के इस जमाने में हमें कई दिलचस्प चीजों के बारे में पता चलता है, जिन्हें जानने के बाद हम काफी हैरान हो जाते हैं। आज भी दुनिया में कई ऐसे देश हैं जिनकी अपनी अलग खासियतें हैं। थाईलैंड उन चुनिंदा देशों में से एक है जहां आज भी मगरमच्छ जैसे खतरनाक जानवरों की जाता है। अगर आप भी सोच रहे हैं कि इस खतरनाक जानवर को कैसे पाला जाता है और इसकी कीमत कितनी है तो आज हम आपको इसके बारे में विस्तार से जानकारी देंगे।

यह भी पढ़िए:-Viral Video: सांप को पकड़कर हांथों से केंचुली उतारने लगा शख्स, वीडियो देख हो जायेँगे आपके रोंगटे खड़े

इस देश में की जाती है मगरमच्छों की खेती

image 252

अब तक आपने सब्जियों की खेती के बारे में सुना होगा तो कई तरह के फलों की खेती के बारे में भी आप सभी जानते होंगे. लेकिन आपको बता दे थाईलैंड में बड़े लेवल पर मगरमच्छों के लिए फार्महाउस बने हुए हैं और इन मगरमच्छों की खेती की जाती है. हैरानी की बात तो यह है कि जितने बड़े पैमाने पर इनका पालन-पोषण किया जाता है, उतने ही पैमाने यहां मगरमच्छ कत्लखाने हैं, जहां उनकी कीमती खाल, मांस और खून के लिए उन्हें जिंदा ही मार दिया जाता है।

यह भी पढ़िए:-किसान भाई ने भिड़ाया गहरे तालाब से पानी निकालने अनोखा जुगाड़, वीडियो देख हो जायेंगे आपके भी रोंगटे खड़े

मगरमच्छो के पालन के लिए 1000 से ज्यादा है फार्महाउस

अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर क्या वजह है कि इतने खतरनाक जानवर को इतने बड़े पैमाने पर पाला जा रहा है.आपको बता दें कि थाईलैंड में मगरमच्छों के लिए बड़े पैमाने पर फार्महाउस बनाए गए हैं। थाई फिशरीज डिपार्टमेंट के मुताबिक, यहां की 1000 से ज्यादा फर्मों में करीब 12 लाख मगरमच्छ रखे गए हैं। इन सभी फर्मों में से, श्री अयुत्या क्रोकोडाइल फर्म थाईलैंड की सबसे बड़ी फर्मों में से एक है। जो 35 साल से भी ज्यादा समय से चला आ रहा है.

क़ानूनी रूप से लीगल होती है यह पूरी प्रक्रिया

image 253

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, कंपनी कानूनी रूप से वन्य जीवों और वनस्पतियों की लुप्तप्राय प्रजातियों में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर कन्वेंशन के साथ पंजीकृत है और वे कानूनी रूप से इन मगरमच्छों की काटते हैं। उन्हें मगरमच्छ से बने उत्पाद बनाने और निर्यात करने की इजाजत मिल गई है.आपको बता दे यह जानकारी हम आपको कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बता रहे है हमारी वेबसाइट बैतूल मीडिया इसकी पुष्टि नहीं करता है।

अंतरास्ट्रीय बाज़ारो में महंगी डिमांड पर बिकते है मगरमच्छ से बने प्रोडक्ट

image 256

अगर आप भी सोच रहे हैं कि जब इन्हें इतने बड़े पैमाने पर पाला जाता है तो इनके साथ क्या किया जाता है, तो हम आपको बता दें कि जानकारी के मुताबिक, मगरमच्छ की खाल से हैंडबैग, चमड़े के सूट, बेल्ट जैसे उत्पाद बनाए जाते हैं जिनकी अंतरास्ट्रीय बाज़ारो में कीमत कीमत डेढ़ लाख रुपये (2356 डॉलर) तक होती है. वहीं, लेदर सूट्स की कीमत करीब 4 लाख रुपये (5885 डॉलर) होती है। जानकारी के मुताबिक मगरमच्छ के शरीर के कुछ हिस्सों से कई तरह की दवाइयां बनाई जाती हैं और मगरमच्छ के खून की कीमत 1000 रुपये प्रति किलो और पित्त की कीमत 76 हजार रुपये प्रति किलो तक होती है.

Jitendra