Wednesday, December 6, 2023
Homeखेती-किसानीजैविक खेती क्यों हैं जरुरी, आर्गेनिक सब्जियां होती है महंगी, जानिए इसके...

जैविक खेती क्यों हैं जरुरी, आर्गेनिक सब्जियां होती है महंगी, जानिए इसके लाभ और खेती करने तरीके

जैविक खेती क्यों हैं जरुरी, आर्गेनिक सब्जियां होती है महंगी, जानिए इसके लाभ और खेती करने तरीके, विश्व की जनसँख्या तेज़ी से बढ़ रही है और बढ़ती जनसंख्या के साथ ही भोजन आपूर्ति की समस्या भी बनी हुई है। भोजन की अधिक से अधिक उत्पादन को प्राप्त करने के लिए मानव तरह-तरह के रासायनिक उर्वरकों, कीटनाशकों एवं रासायनिक दवाइयों का इस्तमाल करके खेती करने लगा है। जिससे उत्पादन तो बढ़ जाता है लेकिन इन खाद्यान्न, फलों और सब्जियों से मानव स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इन रासायनिक दवाइयों से ना सिर्फ पर्यावरण पर बुरा प्रभाव पड़ता है बल्कि मिट्टी भी अपनी उपजाऊपन खोने लगती है।

यह भी पढ़े :- Ertiga का सत्यानाश कर देंगा Mahindra Bolero का कंटाप लुक, दमदार इंजन के साथ फीचर्स भी मिलेंगे एक दम रापचिक

image 586

जानिए क्या है ऑर्गेनिक फार्मिंग ?

ऑर्गेनिक फार्मिंग यानी में किजैविक खेतीसी भी तरह के कैमिकल का इस्तेमाल नहीं किया जाता , इसमें इस्तेमाल किये गए खाद और कीटनाशक भी ऑर्गेनिक ही होते हैं | कैमिकल्स के प्रयोग से जमीन की उर्वरा शक्ति नष्ट होती है, वहीं सब्जियों व फलों में बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है | इन कैमिकल्स को धीमा जहर भी कहते है यही वजह से लोग अब धीरे-धीरे ऑर्गेनिक फार्मिंग की ओर मुड़ रहे हैं |

जानिए ऑर्गेनिक फार्मिंग करने का तरीका

गोबर की खाद, कंपोस्ट खाद, हरी खाद वर्मी कंपोस्ट आदि का उपयोग करते है | इसमें गोबर की खाद, कंपोस्ट, केंचुआ खाद यानी वर्मी कंपोस्ट, फसलों के बचे हिस्से और ढैंचा की बुआई कर उसे सड़ाकर बनी खाद का इस्तेमाल होता है| इससे जमीन की उर्वरा शक्ति तो बढ़ती है साथ ही फसल का उत्पादन भी बढ़ता है | इन खादों की वजह से जमीन को प्राकृतिक तौर पर ही पोटाश, मैग्नीशियम,नाइट्रोजन, फास्फोरस, कैल्शियम जैसे जरूरी पोषक तत्व मिल जाते हैं | खेती करने के दौरान फसल में कीड़े लगना आम है ऐसे में फसल को कीटों से बचाव के लिए कीटनाशक की जरूरत होती है कैमिकल कीटनाशक का छिड़काव नहीं किया जा सकता, इसलिए इसमें जैविक कीटनाशक का इस्तेमाल होता है, जैविक कीटनाशक नीम ऑयल या गौमूत्र में नीम मिलाकर तैयार किया जाता है और फिर उसे खेतों में पौधों पर इस्तेमाल किया जाता है |

image 587

यह भी पढ़े :- गेहूं की ये टॉप क्लास किस्मे देंगी प्रति हेक्टेयर 65 से 75 क्विंटल पैदावार, कम लागत में किसानो को बना देंगी मालामाल, जाने पूरी…

जाने ऑर्गेनिक फार्मिंग के लाभ

  1. जैविक रूप से उत्पादित फलों व सब्जियों में पौष्टिकता व गुणवत्ता अधिक पाई जाती है तथा इससे प्राप्त होने वाले खाद्य पदार्थों में किसी भी प्रकार का विषाक्तता नहीं पायी जाती यह हमारे स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए लाभदायक होती है ।
  2. जैविक खाद के उपयोग से भूमि की गुणवत्ता और मिट्टी की जल धारण क्षमता बढ़ती है |
  3. जैविक खेती में रासायनिक उर्वरकों, रासायनिक दवाइयों का प्रयोग नहीं होने के कारण किसानों की लागत में भी कमी आती है |
  4. जैविक कृषि करके जल और मृदा प्रदूषण को नियंत्रित किया जा सकता है | यह ग्रीन हाउस गैसों के उत्पादन काम करता है जिससे जलवायु में स्थायित्व बना रहता है।
  5. भूमि के जल स्तर में वृद्धि होती है ।
  6. जैविक खेती से की गई पैदावार की बाजार में कीमत अधिक होती है जिससे किसानों को अच्छा मुनाफा होता है |
image 585

क्यों महँगी होती है आर्गेनिक सब्जियां और फल

आपकी जानकारी के लिए बतादे ऑर्गेनिक सब्जियां,फल या अनाज यूं ही महंगे नहीं होते हैं, ऑर्गेनिक खेती में इस्तेमाल होने वाली खाद और कीटनाशक महंगे होते हैं , यही वजह है कि इनका इस्तेमाल कर के की गई खेती भी महंगी होती है| कैमिकल की तुलना में ऑर्गेनिक खेती में उत्पादन कम रहता है, क्योंकि इसमें सब्जियों और फलों के आकार कैमिकल से बढ़ाया नहीं जाता है तो ऐसे में अपना मुनाफा निकालने के लिए किसान इसे थोड़ा महंगे भाव पर ही बेचते हैं और फिर ये मार्केट में आते-आते और ज्यादा महंगी हो जाती है यही वजह है कि आपको हर जगह ऑर्गेनिक प्रोडक्ट सामान्य प्रोडक्ट की तुलना में थोड़े महंगे मिलते हैं

RELATED ARTICLES

Most Popular