लोगो के लिए कमाई का जरिया बना केकड़ा पालन का व्यवसाय, कम समय में होगा जबरदस्त मुनाफा, जानिए डिटेल

By Saurabh

Published on:

Crab farming

Crab farming: लोगो के लिए कमाई का जरिया बना केकड़ा पालन का व्यवसाय, कम समय में होगा जबरदस्त मुनाफा, जानिए डिटेल. आज के समय में बहुत से लोग खेती के साथ अपनी कमाई को दुगना करने के लिए पशुपालन कर रहे है, जिससे वह गाय-भैस, मुर्गी-बकरी मछली का पालन करके जबरदस्त कमाई आमदनी प्राप्त कर रहे है, लेकिन आज हम आपके लिए एक बहुत ही जबरदस्त बिजनेस आईडिया लेकर आये यही, जिसको शुरू करके आप मछली पालन से भी अधिक कमाई कर सकते है। आइए जानते है इसके बारे में। …

केकडो की प्रमुख प्रजातिया

image 732

आपको जानकारी के लिए बता दे की हम जिस बिजनेस के बारे में बता रहे है, वो है केकड़ों पालन का व्यवसाय। जसिको पाल क्र लोग मोटा मुनाफा कमा रहे है, बता दे की इन दिनों की मुख्य रूप से केकड़े की दो प्रजातियों का पालन किया जाता है। एक बड़े आकर का होता है, जिसका वजन 2 किलो और छोटे केकड़े का आकार 1.2 किलो के होते है।

यह भी पढ़े: इन छह शेयरों ने पकड़ी रॉकेट की रफ़्तार, निवेशकों की हुई चांदी ही चांदी, 25 दिन में पैसा हुआ डबल…

कृत्रिम तालाब बनाकर करे पालन

image 733

केकड़ा पालन करके उससे अधिक कमाई करने के लिए केकड़ों को रखने के लिए अपने खेतों में कत्रिम तालब का निर्माण कराया जाता है। जिसके लिए इससे पहले केकड़े के बीज को छोटे पात्रों या खुले पानी के डिब्बों में डाल दिया जाता है। इसके बाद उन्हें तालाब में छोड़ दिया जाता है। फिर केकड़ों को यहां पाला जाता है, और इनको बेचकर आप तगड़ी कमाई करते है।

केकड़े के उचित विकास के लिए दे उचित आहार

image 734

केकडा पालन में अगर आप भी अधिक कमाई करना चाहते है, तो केकडो को उचित आहार भी देना जरुरी होता है।उन्हें प्रति दिन उनके वजन के 5-8% की दर से चारा के रूप में कचरा मछली, खारे पानी के मसल्स या उबला हुआ चिकन अपशिष्ट दिया जाता है। इसके साथ ही आप मछली बेचने वाले लोगों के कचरे या कीचड़ का उपयोग चारे के रूप में कर सकते हैं।

यह भी पढ़े: भारतीय डाक विभाग में 10 वी पास युवाओं के लिए निकली बंपर भर्ती, जानिए आयु सीमा और आवेदन प्रक्रिया

केकड़ा पालन से होगी जबरदस्त कमाई

आपको जानकारी के लिए बात दे की आज के समय में बाजार में केकडो की डिमांड तेज़ हो गयी है, ऐसे में आप इससे अच्छा मुनाफा कमाँ सकते हो। कीमत की बात करें तो ये बाजार में उपलब्ध हैं। नरम केकड़ों की तुलना में ये केकड़े कठोर होते हैं, जिन्हें “कलाद” (मांस) के नाम से जाना जाता है,और बाजार में नरम केकड़ों की तुलना में 3 से 4 गुना अधिक महंगा होता है।

Saurabh