spot_img
Monday, January 30, 2023
spot_img
Homeप्रदेश की खबरेमध्यप्रदेश की खबरे|MP NewsMP News: शिवराज सिंह के सामने ज्योतिराज सिंधिया 2023 चुनाव में मुख्यमंत्री...

MP News: शिवराज सिंह के सामने ज्योतिराज सिंधिया 2023 चुनाव में मुख्यमंत्री बनने को लेकर उठी आवाज, जाने कौन करेगा नेतृव्य

MP News: शिवराज सिंह के सामने ज्योतिराज सिंधिया 2023 चुनाव में मुख्यमंत्री बनने को लेकर उठी आवाज, जाने कौन करेगा नेतृव्य, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया जब तक कांग्रेस में रहे तब तक वे शिवराज सरकार के लिए हमेशा परेशानी खड़ी करते रहे, लेकिन अब बीजेपी में आने के बाद भी ज्योतिरादित्य सिंधिया मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सामने विकल्प के रूप में देखे जा रहे हैं. मिशन 2023 की सफलता के लिए बीजेपी कई बड़े बदलाव करने जा रही है. इन सबके बीच सिंधिया समर्थकों की दबी जुबान से केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के नेतृत्व को लेकर आवाज उठाई जा रही है. मिशन 2023 की सफलता के लिए भारतीय जनता पार्टी गुजरात के फार्मूले पर काम करने की बात कह रही है. इसी बीच यह भी सवाल खड़ा हो रहा है कि मिशन 2023 किसके नेतृत्व में पूरा किया जाएगा?

ये भी पढ़िए: MP News: फैजल ने शान पंडित बन कर एक नाबालिक लड़की का 3 साल तक किया रेप, वीडियो बनाकर वायरल करने की दी धमकी,…

MP News today

शिवराज सिंह चौहान पार्टी पर फोकस बनाते हुए (Shivraj Singh Chouhan focusing on the party)

गुजरात से बीजेपी की सफलता को देखते हुए मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की ओर पार्टी का पूरा फोकस है. मगर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के विकल्प के रूप में ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम सबसे ऊपर आ रहा है. यह नाम इसलिए भी लिया जा रहा है क्योंकि 2018 विधानसभा चुनाव में केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की वजह से ही मध्य प्रदेश में बीजेपी सरकार की वापसी हुई. ज्योतिरादित्य सिंधिया ग्वालियर ही नहीं बल्कि पूरे मध्य प्रदेश में महाराज के रूप में बोले और पहचाने जाते हैं. विधानसभा चुनाव 2018 में बीजेपी ने पूरा फोकस ज्योतिरादित्य सिंधिया पर किया था.

माफ करो महाराज, हमारे नेता शिवराज (Excuse me Maharaj, our leader Shivraj)

ज्योतिरादित्य सिंधिया से सीधा मुकाबला तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी माना था. माना जा रहा है की ज्योतिरादित्य सिंधिया अगर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री बनते है तो मध्यप्रदेश की काम और सही तरीके से चलेगी क्यों की ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस की पार्टी में रहा चुके है तो कांग्रेस की सारी सियासी चलो से परिचित है यही वजह रही कि उस समय बीजेपी की ओर से प्रचार-प्रसार करते समय यहां तक लिखा गया कि “माफ करो महाराज, हमारे नेता शिवराज” लेकिन महाराज के बीजेपी में आने के बाद अब स्लोगन थोड़ा बदलता हुआ जरूर दिखाई दे रहा है.

>

वरिष्ठ पत्रकार संदीप वत्स के मुताबिक अभी देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का कोई विकल्प नहीं है. मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में ही चुनाव होना है. अगर इतिहास देखा जाए तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केंद्रीय नेतृत्व के आदेश पर ही मध्य प्रदेश की कमान संभाली थी, उस समय शिवराज सिंह चौहान सांसद थे. वे पहले मध्य प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष बने, इसके बाद विधायक दल का नेता बनकर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में कुर्सी संभाली. अब ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में दबदबे को साफ आंका जा रहा है

ये भी पढ़िए: MP News: इंदौर में CM शिवराज बोले बेटियों के 35 टुकड़े…

सिंधिया के कमान संभालने से फायदे और नुकसान (Advantages and disadvantages of Scindia taking command)

ज्योतिरादित्य सिंधिया ग्वालियर ही नहीं बल्कि पूरे मध्यप्रदेश में महाराज के रूप में बोले और पहचाने जाते हैं। माना जा रहू कि उस समय बीजेपी की ओर से प्रचार प्रसार करते है अब दोनों महत्वपूर्ण पदों पर केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की दावेदारी मानी जा रही है. वर्तमान में शिवराज सिंह चौहान मंत्रिमंडल के 30 मंत्रियों में सिंधिया समर्थक 9 मंत्री शामिल हैं. इस प्रकार ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में दबदबे को साफ आंका जा सकता है. बीजेपी अगर केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को कमान सौंपती है तो कांग्रेस के लिए मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं. केंद्रीय मंत्री कांग्रेस की हर छोटी-बड़ी सियासी चाल से अच्छी तरह वाकिफ हैं. इसके अलावा देश भर में यह भी संदेश जाएगा कि बीजेपी योग्य जनप्रतिनिधियों को हमेशा आगे बढ़ाती है, भले ही वे विपक्षी दल से इस्तीफा देकर ही क्यों न आए हों. इससे कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में आने वाले नेताओं का उत्साह बढ़ेगा. अब मध्यप्रेश में सियासी दाबो पर चल रहे शिवराज सिंह और ज्योतिराज सिंधिया 2023 चुनाव में किसके पक्ष में चली है हवा देखते है |

>
RELATED ARTICLES

Most Popular