Reduce Stress: बढ़ रहा है तनाव, बिगड़ रहे है सरे काम, तो जानिए राहत दिलाने वाले ये टिप्स

By Saurabh

Published on:

Stress Remove: भागमभाग भरी इस जिंदगी मे अधिकतर व्यक्ति तनाव और चिंता से ग्रस्त हैइस कारण वो इतने चिड़े चिड़े और अशांत मन के हो गए है कि एक छोटी बात भी बड़ी समस्या लगती है हमेशा ही स्ट्रेस से घिरे रहते है और शारीरिक और मानसिक रूप से बीमार पड़ जाते है.

यह भी पढ़े Vastu Tips: आपके घर का मंदिर सीढ़ियों के नीचे तो नहीं, मिलते है कैसे परिणाम, जानिए

Reduce Stress: बढ़ रहा है तनाव, बिगड़ रहे है सरे काम, तो जानिए राहत दिलाने वाले ये टिप्स आज की बिजी लाइफ में चिंता और तनाव एक आम बात है। हर उम्र के व्यक्ति को किसी न किसी प्रकार का तनाव रहता ही है। लेकिन समस्या तब होती है जब यह जरूर से ज्यादा बढ़ जाता है और इसका स्वास्थ पर भी प्रभाव होने लगता है। तनाव से ग्रस्त व्यक्ति शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से बीमार होता है। तो चलिए आज हम कुछ ऐसे सरल उपायों की जिन्हें नियमित रूप से तनाव से राहत पाई जा सकती है.

image 494

आखिर क्या है तनाव

तनाव एक तरह का मानसिक विकार है। किसी भी एक नकारात्मक विचार का हमारे मस्तिष्क पर हावी हो जाना और हमारी मानसिक स्थिति पर बुरा प्रभाव डालना जिससे हमारा दिमाग़ सही तरह से काम करने और किसी भी ख़ुशी के अवसर पर भी ख़ुशी न महसूस करने लगता है। तो स्थिति को तनाव की स्थिति कहा जा सकता है। लेकिन कुछ लोग किसी मुद्दे को लेकर चिंतित होते है और कुछ लोग बस तनाव ग्रस्त होते हैं।

तनाव के लक्षण

जीवन मे तनाव होने पर कई लक्षण दिखाई देते है जिन्हे हम कई बार इग्नोर करते है चलिए जानते है लक्षणो के बारे मे ताकि हम इनसे छुटकारा पा सके पने-ऊपर विश्वास न होना, सर में दर्द रहना, उदास रहना, किसी काम में मन ना लगना, अधिक या कम सोना, अधिक या कम खाना, अपने को दूसरों से कम आंकना, मौत या खुदकशी जैसे ख्याल आना, खुश होने वाली बात पर भी गुस्सा आना, कम बोलना यह सभी तनाव के लक्षण हैं।

यह भी पढ़े Pure Tea: गलत चाय के इस्तेमाल से पड़ सकता है पछताना, ऐसे करें सही चायपत्ती की पहचान, जानिए कैसे

तनाव को खुद की जिंदगी से बाहर निकालने के लिए छोटी छोटी आदतें,जानिये

image 498

जरूरी है पर्याप्त नींद

रात में 7 से 8 घंटे की एक अच्छी नींद लेना सबसे जरुरी काम है पूरी नींद नहीं लेने से दिनभर थकान महसूस होता है और अपर्याप्त नींद मूड, मेंटल हेल्थ, एनर्जी लेवल और फिजिकल हेल्थ पर बुरा असर डालती है। यदि आप तनाव से छुटकारा पाना चाहते हैं तो पर्याप्त मात्रा में नींद जरूर ले.

खुद को रिलैक्स करना

मेडिटेशन और एक्सरसाइज एक पॉवरफुल रिलैक्सेशन टेकनीक और स्ट्रेस-बस्टर है जो तनाव से राहत दिलाने का काम करता है और दिमाग को एक्टिव रखता है। ध्यान, योग, प्रोग्रेसिव मसल्स रिलैक्सेशन, गाइडेड इमेजरी, एक्सरसाइज को अपनी दिनचर्या मे शामिल करे.

​सोशल नेटवर्क से बनाये स्ट्रांग कनेक्शन

image 497

पने पुराने दोस्तों, परिवार के लोगों को अपने पार्टनर के साथ हमेसा बातचीत करते रहने से हमे स्ट्रेस नहीं होता है कोशिश करे स्कूल, कॉलेज या ऑफिस यहां भी जाते हैं वहां के अपने साथियों के साथ हमेसा संपर्क में रहें। जिससे जरूरत के समय में वे लोग आपका साथ दें और आपकी परेशानी सुनें और आपको सलाह दें। क्योंकि जब भी तनाव में होते हैं तो हमारा मस्तिष्क इतना एक्टिव नहीं होता है

खुद के लिए समय और स्किल

आपको जब भी समय मिले तो आप कुछ नया सीखें। अपनी स्किल्स पर काम करें,क्योंकि कुछ लोगों को जब भी टाइम मिलता है तो सारा समय किसी बात की टेंशन में गुजार देते हैं या फोन के साथ। ऐसा करना हमारे तनाव बढ़ता है जब भी वो काम करते हैं जो हमे पसंद है तो हम खुद को एक्टिव और अपने मन को शांत रख पाते है इससे तनाव होने की गुंजाइश नहीं रहती।

डाइट में करें बदलाव

यह भी पढ़े UP Police Recruitment: यूपी सरकार ने कर ली है सरकारी नौकरी देने की तैयारी समय रहते करे आवेदन, जानिए

हमे यह यकीं करना होगा कि खाने-पीने का हमारे मस्तिष्क का बहुत गहरा पड़ता है कहते है ”जैसा आहार वैसा विचार”आप जितना जंक फ़ूड और पैकेज्ड फ़ूड खाएंगे आपका दिमाग उतना ही कम सक्रिय होगा इसलिए आपको अपनी डाइट में हरी सब्जियां और फल जरूर शामिल करें। जिससे आप शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रहें।

image 491

खुद पर करे भरोसा

हम कई बार खुद को दूसरों से कम आंकने लगते हैं और जरुरत पड़ने पर भी दूसरे लोगों से मदद नहीं मांगते लेकिन हमे यह समझने की जरूरत है कि यदि हम किसी परेशानी में हैं तो अपने दोस्तों, पार्टनर और परिवार के लोगों के साथ बातचीत करना चाहिए और इससे हमे परेशानी का हल मिलेगा और हल नहीं मिला तो मन हल्का जरूर हो जायेगा निकाल,ऐसा करने से आप तनाव से बच जायेंगे।

सुझाव =आप इन बदलाव और टिप्स से तनाव को खत्म कर सकते हैं। लेकिन फिर भी यदि आपको तनाव रहता है तो आपको समय रहते डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

Saurabh