शनिवार की रात सूर्यास्त के बाद चुपके से करें ये काम, बरसेगी शनिदेव की असीम कृपा, मिलेगा दुखों से छुटकारा

Saurabh
3 Min Read

Shani Stotram Upay: शनिवार की रात सूर्यास्त के बाद चुपके से करें ये काम, बरसेगी शनिदेव की असीम कृपा, मिलेगा दुखों से छुटकारा. हिन्दू धर्म के सबसे अधिक शक्तिशाली और कर्म विधान के अनुसार अपना न्याय चक्र चलाने वाले न्याय के देवता शनि महाराज का सबसे प्रिय दिन शनिवार है, इस दिन आप उनका विधिवत पूजन करके आप अपने जीवन में जुडी अभी तकलीफो से मुक्ति पा सकते है, इतना ही नहीं अगर आप शनिवार को सूर्यास्त के बाद अगर शनि मंदिर में जाकर शनि स्त्रोत का पाठ करते है, तो यह आपको बेहद मनवांछित फल देते है, और शनि देव हमेशा आप पर प्रसन्न रहते है, आइये जानते है, शनि देव के प्रिय मंत्र और उनके बारे में जानकारी

यह भी पढ़े: केवल पारखी नजर वाले ही खोज पाएंगे इस तस्वीर में 3 अंतर, जवाब ढूंढने में 95% लोग हुए फ़ैल

हर शनिवार की रात में भक्ति-भाव से करें शनि स्तोत्र का पाठ

image 566

नम: कृष्णाय नीलाय शितिकण्ठ निभाय च।

नम: कालाग्निरूपाय कृतान्ताय च वै नम:।।

नमो निर्मांस देहाय दीर्घश्मश्रुजटाय च।

नमो विशालनेत्राय शुष्कोदर भयाकृते।।

नम: पुष्कलगात्राय स्थूलरोम्णेऽथ वै नम:।

नमो दीर्घाय शुष्काय कालदंष्ट्र नमोऽस्तु ते।।

नमस्ते कोटराक्षाय दुर्नरीक्ष्याय वै नम:।

नमो घोराय रौद्राय भीषणाय कपालिने।।

नमस्ते सर्वभक्षाय बलीमुख नमोऽस्तु ते।

सूर्यपुत्र नमस्तेऽस्तु भास्करेऽभयदाय च।।

अधोदृष्टे: नमस्तेऽस्तु संवर्तक नमोऽस्तु ते।

नमो मन्दगते तुभ्यं निस्त्रिंशाय नमोऽस्तुते।।

तपसा दग्ध-देहाय नित्यं योगरताय च।

नमो नित्यं क्षुधार्ताय अतृप्ताय च वै नम:।।

ज्ञानचक्षुर्नमस्तेऽस्तु कश्यपात्मज-सूनवे।

तुष्टो ददासि वै राज्यं रुष्टो हरसि तत्क्षणात्।।

देवासुरमनुष्याश्च सिद्ध-विद्याधरोरगा:।

त्वया विलोकिता: सर्वे नाशं यान्ति समूलत:।।

प्रसाद कुरु मे सौरे ! वारदो भव भास्करे।

एवं स्तुतस्तदा सौरिर्ग्रहराजो महाबल:।।

यह भी पढ़े: जानिए आज 06 जनवरी 2024 दिन-शनिवार का राशिफल, किस राशि का चमकेगा भाग्य और किन लोगो को होगी परेशानी

सफल जीवन के लिए करें शनिदेव के इस प्रिय मंत्र का पाठ

image 567

अपराधसहस्त्राणि क्रियन्तेऽहर्निशं मया।

दासोऽयमिति मां मत्वा क्षमस्व परमेश्वर।।

गतं पापं गतं दु:खं गतं दारिद्रय मेव च।

आगता: सुख-संपत्ति पुण्योऽहं तव दर्शनात्।।

शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए करे इस वैदिक मंत्र का जाप

image 568

ऊँ त्रयम्बकं यजामहे सुगंधिम पुष्टिवर्धनम ।

उर्वारुक मिव बन्धनान मृत्योर्मुक्षीय मा मृतात ।

ॐ शन्नोदेवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये।शंयोरभिश्रवन्तु नः। ऊँ शं शनैश्चराय नमः।

Share This Article