विज्ञान ने किया कमाल, बिना लोहे सीमेंट से बन रहा है रामलला का भव्य मंदिर, जाने क्या है खास बात!

By Pragya

Published on:

विज्ञान ने किया कमाल, बिना लोहे सीमेंट से बन रहा है रामलला का भव्य मंदिर, जाने क्या है खास बात!

अयोध्या में श्रीराम मंदिर के लिए पांच सदियों का इंतजार हुआ खत्म। करीब 500 साल तक अयोध्या और सनातन धर्म के मानने वालों को भव्य मंदिर में रामलला के दर्शन से वंचित रखा गया रखा गया। अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण कार्य अपने पर है। राम लला का भव्य मंदिर बनाया जा रहा है। राम भक्तों को इस मंदिर का इंतजार था। अब 22 जनवरी को मंदिर का उद्घाटन होने वाला है। इस मंदिर के निर्माण में न केवल पारंपरिक प्राचीन शैली और संस्कृति का समावेश है, बल्कि नई तकनीक का भी उपयोग किया जा रहा है।

राम मंदिर का पूरा परिसर 71 एकड़ का है

image 477

यह भी पढ़े –मकर संक्रांति का दिन सूर्यदेव को समर्पित, इस दिन कौनसे काम करे और कौनसे न करें

आपको बता दें कि मंदिर का पूरा परिसर 71 एकड़ का है। जबकि रामलला का मंदिर 8 एकड़ में बना है। इस तरह बनाया जा रहा है मंदिर, जो 1 साल से भी कम समय में बनकर तैयार हो गया है। देश में पहली बार श्री राम मंदिर की नींव को मजबूत करने के लिए अप्रभावी दिखने वाला कार्य किया गया। मंदिर के लिए 400 फुट लंबी, 300 फुट लंबी संरचना बनाई गई थी। 14 मीटर की गहराई तक चट्टानें जमीन में धंस गईं और यही चट्टान मंदिर की नींव बनी। यह एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जिसपर बना मंदिर हजारों साल तक स्थिर और सुरक्षित रहेगा।

6 आईआईटी ने मिलकर तैयार किया

मंदिर बनाने में सबसे बड़ी चुनौती थी कि मंदिर की नींव कैसे रखी जाए। इसके लिए अलग-अलग एक्सपर्ट से राय ली गई. लंबे वक्त तक परीक्षण किया गया. अलग-अलग स्तर पर टेस्टिंग हुई। यहां तक ​​कि इंटरव्यू सर्वे का भी सहारा लिया गया। करीब 50 फीट गहरी खुदाई कर कृत्रिम चट्टान तैयार की जाएगी। इस काम में आईआईटी चेन्नई, आईआईटी दिल्ली, आईआईटी आईआईटी, आईआईटी मुंबई, आईआईटी मद्रास, एनआईटी सूरत और आईआईटी खड़गपुर के अलावा सीएसआईआर यानी काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च और सीबीआरआई सेंट्रल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट ने मदद की। वहीं लार्सन टुब्रो और टाटा एकपार्ट इंजीनियर्स ने भी राम मंदिर निर्माण में अपना अहम योगदान दिया है।

मंदिर पर प्राकृतिक आपदाओं का नहीं पड़ेगा कोई प्रभाव

image 478

और आपको बता दे की प्राकृतिक आपदाओं में भी भगवान राम का मंदिर मजबूत रहे, इसका विशेष ध्यान रखा गया है। इसीलिए मंदिर के निर्माण में भारत की प्राचीन और पारंपरिक निर्माण तकनीकों का इस्तेमाल किया गया है। जिससे की मंदिर पर भूकंप, तूफान और अन्य प्राकृतिक आपदाओं का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। मंदिर में लोहे और सीमेंट की जगह सिर्फ पत्थरों का इस्तेमाल किया जा रहा है. मंदिर में जो पत्थर लगाए जा रहे हैं उनका लैब टेस्ट किया जा चुका है। पत्थरों को जोड़ने के लिए तांबे का भी उपयोग किया गया है। इसका उद्देश्य यह है कि मंदिर मजबूत हो और हर चुनौती को पार कर सके।

हर वैज्ञानिक पहलू का रखा गया ध्यान

मंदिर निर्माण से जुड़े इंजीनियरों की मानें तो राम मंदिर एक हजार साल तक जैसे का वैसा ही रहेगा। चाहे बड़े-बड़े तूफान आएं या भूकंप से धरती हिल जाए, यह मंदिर वैसा ही रहेगा। राम मंदिर को प्राकृतिक आपदाओं से बचाने के लिए वैज्ञानिक तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है। मंदिर के अंदर और बाहर तेजी से काम चल रहा है। गर्भगृह के निर्माण में सभी बारीकियों का ध्यान रखा गया है और वैज्ञानिक पहलुओं को ध्यान में रखते हुए काम किया जा रहा है।

आधुनिक एवं प्राचीन दोनों प्रकार की तकनीक का उपयोग

image 479

यह भी पढ़े –रहती है इस बिजनेस की मार्केट में भारी डिमांड, घर बैठे आप भी कमा सकते है लाखों रुपय

आपको बता दे की मंदिर का निर्माण आधुनिक समय के अनुसार किया जा रहा है लेकिन इसमें प्राचीन सभ्यता और प्राचीन तकनीक की मदद भी ली गई है। यह सुनिश्चित करने के लिए भी काम किया गया है कि जहां रामलला विराजमान होंगे उस स्थान का रामनवमी के दिन सूर्य की रोशनी से अभिषेक हो। श्रीराम मंदिर का गर्भगृह एक और वजह से बेहद खास और अनोखा होगा।

श्रीराम मंदिर का गर्भगृह इस वजह से है खास

आपको बता दे की श्रीराम मंदिर के अंदर गर्भगृह को इस तरह से तैयार किया गया है कि हर साल रामनवमी के दिन दोपहर ठीक 12 बजे सूर्य की किरणें गर्भगृह में मौजूद श्री राम की मूर्ति पर पड़ेंगी। इसके लिए काफी मशक्कत के बाद मंदिर के शिखर पर एक उपकरण लगाया जाएगा और इससे सूर्य की किरणें परावर्तित होकर रामलला के माथे तक पहुंच जाएगी। भगवान राम का मंदिर आज के विज्ञान और प्राचीन भारतीय वास्तुकला के अनूठे संगम से बनाया जा रहा है। मंदिर निर्माण के लिए रामभक्तों ने सदियों तक जो संघर्ष किया वह अब सफलता की सीढ़ियां चढ़ रहा है। अब इंतजार उस पल का है जब रामलला अपने निवास स्थान पर विराजमान होंगे।

Pragya