Wedding Card Vastu: अपने शादीशुदा जीवन को खुशहाल बनाने, कार्ड बनवाते समय रखें इन वास्तु नियमों का ध्यान

By Saurabh

Published on:

Wedding Card: शादी में कपड़ों का ही नहीं शादी के कार्ड का भी विशेष महत्व दिया गया है पर हम शादी के कार्ड बनवाते समय जाने अनजाने कई गलतियां कर बैठते है जिसका कई बार हमे खामियाज़ा भी भुगतना पड़ता है

यह भी पढ़े Long Hair Tips: घर पर बने इस एक तेल से कमर तक लंबे हो सकते हैं आपके बाल, जानें कैसे करे इस्तेमाल

Wedding Card Vastu: अपने शादीशुदा जीवन को खुशहाल बनाने, कार्ड बनवाते समय रखें इन वास्तु नियमों का ध्यान हिंदू धर्म में शादी का काफी ज्यादा विशेष महत्व होता है क्योंकि इससे दो लोगों की नई जिंदगी शुरुआत होती है शादी के साथ शादी के कार्ड पर भी वास्तु नियम लागु होते है वास्तु नियमों के अनुसार वेडिंग कार्ड में यह चीज शामिल करते हैं तो जिंदगी हमेशा खुशियों से भरी रहती है चलिए जानते हैं यही कारण है कि शादी से जुड़ी हर एक बात पर न सिर्फ ज्योतिषीय से बल्कि वास्तु नियमों से भी से जिनका पालन करने से न तो वास्तु दोष लगता है न ही शादी में बाधा आती है।

image 603

ज्योतिषीय और वास्तु नियम दोनों के अनुसार शादी के कार्ड को सबसे पहले श्री गणेश को अर्पित किया जाता है कहा जाता है यदि शादी के कार्ड में वास्तु से संबंधित कोई गलती होती है तो ऐसा कार्ड श्री गणेश को मान्य नहीं होता है। तो चलिए जानते हैं शादी कार्ड के वास्तु नियम। 

आखिर शादी का कार्ड कैसा होना चाहिए

यह भी पढ़े शनिवार की रात सूर्यास्त के बाद चुपके से करें ये काम, बरसेगी शनिदेव की असीम कृपा, मिलेगा दुखों से छुटकारा

वास्तु शास्त्र के अनुसार शादी के कार्ड पर भूल से भी गणेश जी की फोटो नहीं बनवाना चाहिए ऐसा इसलिए क्योंकि शादी हो जाने के बाद वेडिंग कार्ड लोग कचरे मे फेंक देते हैं या फिर पेड़ के नीचे रख देते है ऐसे में श्री गणेश की फोटो होना उनका अपमान है। 

image 602

ज्योतिषीय के अनुसार शादी कार्ड त्रिकोण या पत्तों के आकार में नहीं होना चाहिए। ट्रायंगल के आकार वाला शादी कार्ड नकारात्मकता को आकर्षित करता है तो वहीं, पत्ते के आकार वाला वेडिंग कार्ड शुभ नहीं माना जाता है। मान्यता है कि देवों को ऐसी पत्रिका स्वीकार नहीं। 

वास्तु शास्त्र में बताया गया है कि शादी के कार्ड का आकार चौकोर होता है, उस शादी के कार्ड को सबसे अधिक शुभ माना जाता है क्योंकि शादी के चौकोर कार्ड के चार कोनों पर सुख, समृद्धि, शांति एवं सौभग्य का वास होता है।  

यह भी पढ़े सर्दियों के दिनों में खूब चलेगा यह बिजनेस, शुरू करके आप भी कर सकते है तगड़ी कमाई, जाने पूरी जानकारी

वास्तु शास्त्र के अनुसार, शादी के कार्ड पर दूल्हा-दुल्हन की फोटो नहीं लगानी चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि दूल्हा-दुल्हन के चित्र बनाने या दूल्हा-दुल्हन के प्रतीक रूप बनाने उनमे नजर दोष होने की सम्भावना रहती है शादी के जोड़ी को नजर लग सकती है। 

image 604

वास्तु शास्त्र के अनुसार पीले रंग का शादी का कार्ड बहुत शुभ माना जाता है। इसके अलावा, लाल रंग का कार्ड भी अच्छा होता है। शादी के कार्ड में हमेशा हलके रंग और खुशबूदार कागज़ का प्रयोग करना चाहिए या सुगंध डालनी चाहिए शादी का कार्ड कभी भी काले या भूरे रंग का नहीं होना चाहिए।

Saurabh