Homeखेती-किसानीये खास धान की किस्में तोड़ेंगी उत्पादन में सारे रिकॉर्ड, कम लागत...

ये खास धान की किस्में तोड़ेंगी उत्पादन में सारे रिकॉर्ड, कम लागत में बना देंगी धनवान, जाने पूरी डिटेल

ये खास धान की किस्में तोड़ेंगी उत्पादन में सारे रिकॉर्ड, कम लागत में बना देंगी धनवान, जाने पूरी डिटेल, देश में धान उत्पादन अब किसानों के साथ-साथ सरकार के लिए भी चुनौती बनता जा रहा है. जैसे-जैसे पानी का स्तर घट रहा है, चिंताएं बढ़ रही हैं. एक ओर घटता जल स्तर और दूसरी ओर बढ़ती हुई जनसंख्या भी खाद्य सुरक्षा के लिए एक बड़ी चुनौती है। किसानो की गरीबी मिटा देने वाली भारत की 5 सबसे अच्छी धान की वैरायटी के बारे में बताएँगे।

यह भी पढ़े :- Innova को धोबी पछाड़ देंगी Maruti Ertiga का लक्ज़री लुक, 26km के शानदार माइलेज के साथ मिलेंगे दनदनाते फीचर्स, देखे कीमत

image 261

पूसा – 834 धान किस्म (Pusa – 834 paddy variety)

यह बासमती चावल की उच्च उपज वाली किस्म है जिसे भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (IARI) द्वारा विकसित किया गया था। यह एक अर्ध-बौनी किस्म है जिसकी परिपक्वता अवधि लगभग 125-130 दिनों की होती है। पूसा 834 के फायदों में से एक इसका जीवाणु पत्ती झुलसा रोग के प्रति प्रतिरोध है, जो चावल की खेती में एक आम समस्या है। यह लवणता के प्रति भी सहिष्णु है और उच्च मिट्टी की लवणता के स्तर वाले क्षेत्रों में बढ़ सकता है। यह इसे कम गुणवत्ता वाली मिट्टी या पानी की कमी वाले क्षेत्रों में किसानों के लिए एक अच्छा विकल्प बनाता है। पूसा 834 का एक अन्य लाभ इसकी उच्च उपज क्षमता है। यह प्रति हेक्टेयर 6-7 टन धान का उत्पादन कर सकता है।

यह भी पढ़े :- घर बैठे 20 पैसे का सिक्का बना देंगा लखपति, मिनटों में चमका देंगा आपकी किस्मत, जाने बेचने का आसान तरीका

पंत धान-12 धान किस्म (Pant Paddy-12 Paddy Variety)

इस धान की अधिक उपज देने वाली किस्म है। यह एक अर्ध-बौनी किस्म है जो 110-115 दिनों में पक जाती है। उत्तर भारत के सिंचित क्षेत्रों में खेती के लिए उपयुक्त है। पंत धान-12 के फायदों में से एक इसकी उच्च उपज क्षमता है। यह प्रति हेक्टेयर 7-8 टन अनाज का उत्पादन कर सकता है, जो पारंपरिक गेहूं की किस्मों की तुलना में काफी अधिक है।

PR-121 धान किस्म (PR-121 Paddy variety)

आपको बतादे PR-121 धान मार्केट में बहुत ही ज्यादा प्रसिद्ध धान की वैरायटी है और इसकी रोपाई 15 जून से कर सकते है। 5 kg प्रति एकड़ के हिसाब से बीज दर लेनी है इसका पौधा 110 से 115 सेंटी मीटर ऊचा होता है। यह लगभग 130 से 140 दिन के अन्दर पाक कर तैयार होने वाली वैरायटी है इसमें कल्ले बहुत ज्यादा होते है लगभग 18 कल्ले आपको देखने को मिलते है जो आपको अच्छा उत्पादन दे देती है इसमें वैरायटी में बीमारियों के प्रति ज्यादा पैसे खर्च नहीं करना पड़ेगा और बहुत ही कम सिचाई में इस वैरायटी से 32 से 35 कुंटल तक प्रति एकड़ का उत्पादन ले सकते है।

image 262

पूसा बासमती – 1718 धान किस्म (Pusa Basmati – 1718 Paddy Variety)

बासमती किस्म के अन्दर सबसे अधिक उत्पादन देने वाली वैरायटी है जो की कई वर्षो से हमारे किसान भाइयो को रिकॉर्ड तोड़ पैदावार देती जा रही है। इसकी रोपाई आप 25 जून से कर सकते है इस वैरायटी का पकने का अवधि 130 से 135 दिन है जो की Bacterial Leaf Blight से काफी ज्यादा सहनसिलता रखती है इसमें भी रोगों के प्रति पैसा खर्च नहीं करना पड़ेगा जो की अधिकतर धान में देखने को मिलता है। इसकी बाली काफी ज्यादा लम्बी होती है। इस वैरायटी से आप 30 कुंटल प्रति एकड़ का उत्पादन ले सकते है

JK-2082 धान किस्म (JK-2082 Paddy variety)

इस वैरायटी का आपको 6 kg प्रति एकड़ के हिसाब से बीज लेना है और 15 जून से इस वैरायटी की रोपाई कर सकते है और इसमें भी BLB फंगस वाले रोग इस वैरायटी में बहुत ही कम देखने को मिलते है। यह वैरायटी 120 से 130 दिन के अन्दर पककर तैयार हो जाती है और यह वैरायटी सबसे कम दिनों में पककर तैयार होने वाली वैरायटी है इस वैरायटी से आपको प्रति एकड़ 35 से 36 कुंटल का उत्पादन हो जायेगा। इस वैरायटी की खेती करके भी आप अछि खासी कमाई कर सकते है।

RELATED ARTICLES

Most Popular